Doodh Ganga Yojana 2023: डेयरी फार्मिंग बिजनेस लोन, जानें कैसे करें आवेदन

आप लोग के लिए एक बहुत ही अच्छी खुशखबरी है, जो कि इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे Doodh Ganga Yojana 2023: डेयरी फार्मिंग बिजनेस लोन, जानें कैसे करें आवेदन के बारे में, सरकार द्वारा चलाये गए इस दूध गंगा योजना से किसानों को भी अनेक लाभ प्राप्त होंगे |

अगर आप भी हिमाचल प्रदेश के नागरिक है और Dhoodh Ganga Yojana 2023 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियों जैसे- इसका उद्देश्य, लाभ एवं विशेषताएं, आवेदन प्रक्रिया के बारे मे जानना चाहते हैं, तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़ें। डेयरी एंट्रप्रेन्यूरशिप डेवलपमेंट स्कीम (DEDS)

जाने कैसे पाए (30 लाख रुपये) लोन, हिमाचल प्रदेश की सरकार आपको ₹300000 का लोन बहुत ही कम ब्याज दर पर दे रही है। यह योजना वर्ष 2010 में शुरू की गई थी, लेकिन राज्य में इस योजना को सुचारू रूप से चलाने के लिए राज्य सरकार ने वित्तीय सहायता प्रदान करने का प्रावधान किया है। अगर आप भी हिमांचल प्रदेश के निवासी हैं तो इस योजना का लाभ ले सकते हैं |

Doodh Ganga Yojana 2023

कुछ लोग ऐसे हैं जो कि दूध का कारोबार तो करते हैं लेकिन उसे आगे बढ़ाने के लिए उनके पास पैसे (वित्तीय सहायता) नहीं होने के वजह से उनको बहोत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है| इस योजना के तहत जो भी व्यक्ति दूध का कारोबार करता है उसे काफी अच्छी सहायता मिलने वाली है। कम ब्याज दर पर लोन ले सकते है|

Doodh Ganga Yojana

डेयरी किसानों के इस समस्या को देखते हुए सरकार सभी वर्ग के लोगों को दूध गंगा योजना के तहत अलग-अलग सब्सिडी भी देती है| तीस लाख रुपय तक का सब्सिडी युक्त लोन सरकार द्वारा दिया जाता है। जिससे कि वह अपने दुग्ध उत्पादन के व्यवसाय में बढ़ोतरी कर सकें।

Dhoodh Ganga Yojana 2023 Main Point Highlights:

योजना का नाम दूध गंगा योजना (Doodh Ganga Yojana)
सम्बंधित राज्य हिमांचल प्रदेश
योजना की शुरुआत वर्ष 2010
लोन राशी 30 लाख रुपये
ऑफिसियल वेबसाइट hpagrisnet.gov.in

दूध गंगा योजना का नाम दूध गंगा परियोजना (डेरी वेंचर कैपिटल फंड) था जिसमें ब्याज मुक्त ऋण देने का प्रावधान था। लेकिन बाद  में इसके स्वरूप में परिवर्तन किया गया और इसका नाम बदलकर दूध गंगा योजना (एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट स्कीम) कर दिया गया |

दूध गंगा योजना का उद्देश्य

योजना का मुख्य उद्देश्य डेयरी फार्मिंग से जुड़े सूक्ष्म उद्यमों को राज्य के बड़े और सफल डेयरी उद्यमों में बदलना है। नागरिकों को दुधारू पशुओं के देखरेख और उनके संरक्षण के लिए प्रोत्साहित करना है। इस योजना के तहत उच्च नस्ल के दुधारू पशुओं के पालन और संरक्षण के लिए भी लोगों को प्रेरित किया जाएगा।

इस बिजनेस के माध्यम से सब की आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और लोग आत्मनिर्भर और सशक्त बनकर अपना जीवन यापन कर पाएंगे। दूध गंगा योजना के अंतर्गत लोग अपना दूध का उत्पादन बढ़ाकर अच्छा डेयरी बिजनेस सेटअप कर सकें।

Also read thisSBI Pre Approved Loan: एसबीआई पर्सनल लोन, तुरंत ले 8 लाख का लोन, जाने कैसे

योजना का लाभ: Benefits

  • इस योजना के अंतर्गत 10000 से भी अधिक स्वयं सहायता ग्रुप को जोड़ा जाएगा, जिससे 50000 से भी अधिक परिवारों को रोजगार मिलेगा।
  • लाभार्थियों को 30 लाख रूपये के लोन की सुविधा डेयरी फार्मिंग के व्यवसाय को शुरूआत के लिए प्राप्त हो सकेंगे।
  • योजना के अंतर्गत देसी गाय और भैंस की खरीद के लिए 20% और जर्सी गाय की खरीद के लिए 10% की सब्डिसी प्रदान की जाएगी।
  • प्रतिवर्ष 350 लाख लीटर दूध उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है।

दूध गंगा योजना का की पात्रता: Eligibility

  1. सिर्फ हिमाचल प्रदेश के स्थाई व्यक्ति ही उठा पाएंगे।
  2. एक ही परिवार के अलग-अलग लोग इस योजना का अलग-अलग लाभ उठा सकते हैं |

दूध गंगा योजना के तहत दी जाने वाली सब्सिडी

इस योजना में सामन्य वर्ग के लोगों को 25% तथा SC, ST 33% की सब्सिडी दी जाती है ये सब्सिडी जो मिलेगी वो वभिन्न कारको पर स्थापित की जाएगी। अब आपको एक और बात बताएं कि सरकार दूसरी तरीके की भी सब्सिडी देती है |

जो किसान देसी गाय खरीदता है तो उसको 20 फीसदी तथा जो जर्सी गाय खरीदता है| उसको 10 फीसदी की सब्सिडी दी जाती है। इस प्रकार Doodh Ganga Yojana के तहत किसानों को सब्सिडी दी जाती है।

Required Documents: आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • जाति प्रमाण पत्र
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट की डिटेल्स
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट फोटो

Doodh Ganga Yojana 2023 ऑनलाइन आवेदन कैसे करें

Doodh Ganga Yojana 2023-min

  • होमपेज पर आपको “Apply Online” के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक आवेदन फॉर्म खुल कर आ जाएगा।
  • अब आपको इस आवेदन फॉर्म में मांगी गई सभी आवश्यक जानकारियों का विवरण दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको पूछे गए सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज अपलोड करने होंगे।
  • इसके बाद आपको “जमा करें” के विकल्प पर क्लिक करना होगा |

Doodh Ganga Yojana FAQs:

Doodh Ganga Yojana की शुरुआत कब शुरू हुयी ?

2010 में दूध गंगा योजना की शुरुआत की गई थी।

दूध गंगा स्कीम को किसके द्वारा शुरू किया गया है ?

हिमाचल प्रदेश की सरकार

दूध गंगा योजना के अंतर्गत ऋण विवरण कितना है ?

  • पशुपालक किसानों को 2 से 10 दुधारू पशुओं के लिए 5 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान किया जाता है।
  • इसके अलावा राज्य के सभी पात्र किसानों को 5 से 10 बछड़ों को पालने के लिए 4.80 लाख रुपये तक का ऋण राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।
  • किसानों को हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा मिल्किंग मशीन, मिल्क टेस्टर, मिल्क कूलर यूनिट “2000 लीटर तक” के लिए 18.00 लाख तक का ऋण भी दिया जाएगा।
  • इसके तहत पात्र आवेदकों को मोबाइल यूनिट के लिए 2.40 लाख का ऋण राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा।
  • Doodh Ganga Yojana 2023 के तहत सरकार किसानों को रहने लायक जगह के लिए 1.80 लाख रुपये तक का कर्ज मुहैया कराएगी।

Conclusion (निष्कर्ष):-

साथियों अगर आपको इस पोस्ट में हमारी तरफ से Doodh Ganga Yojana 2023: डेयरी फार्मिंग बिजनेस लोन, जानें कैसे करें आवेदन, के बारे में दी हुयी जानकारी आपको पसंद आयी हो या पहर इस योजना से सम्बंधित किसी भी तरह का सवाल आपके मन में हो तोह आप हमसे कमेंट बॉक्स के ज़रिये पूछ सकते है |

इस योजना से जुड़े सभी दस्तावेजों की जानकारी आपको पोस्ट में मिलेगी हमने अपने तरफ से आपको इस योजना स्कीम के फॉर्म की फोटो भी प्रोवाइड करवाई है आशा करता हु हमारा द्वारा दी हुयी जानकारी आपको पसंद आयी होगी ऐसे ही लेटेस्ट जानकारियों के के लिए हमारी वेबसाइट Govtscheme.net पर आते रहे |

2 thoughts on “Doodh Ganga Yojana 2023: डेयरी फार्मिंग बिजनेस लोन, जानें कैसे करें आवेदन”

Leave a Comment